Off Page SEO क्या है और कैसे करते है (Stepwise Guide in Hindi)

क्या आप जानते हैं कि Off Page SEO Kya Hai? क्या आपकी website का पूर्ण रूप से सर्च इंजन के लिए ऑप्टिमाइज होने के बाद भी ट्रैफिक नहीं आ रहा है? क्या तमाम कोशिशों के बावजूद भी आपका साइट रैंक नहीं कर पा रहा है?

यदि ऐसा है तो आप सही जगह पर आए हैं आज हम इस लेख के माध्यम से आपको तीनों प्रकार के SEO में से एक महत्वपूर्ण SEO जिसका नाम होता है off page SEO, के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे।

तो आइए आज के विषय Off page SEO के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करते हैं।

परंतु off page SEO को जान लेने से पूर्व हमें यह जान लेना अत्यंत आवश्यक है कि SEO क्या होता है?

SEO क्या होता है? (What is SEO in Hindi)

जब हम वेबसाइट निर्माण का कार्य करते हैं या अपने ब्लॉग को लिखने का काम करते हैं तो इसमें एक सबसे महत्वपूर्ण पहलू जुड़ जाता है कि हमारे पाठक कहा से आयेंगे?

हो सकता है इसका उत्तर आप जानते हो जैसे उदाहरण के लिए आप अपने वेबसाइट पर मूल रूप से ट्रैफिक सोशल मीडिया के माध्यम से लाते हैं तो इसका अर्थ यह हो जाता है कि आपके मूल पाठक सोशल मीडिया से हैं।

परंतु जब बात आती है ब्लागिंग के क्षेत्र पर अपना वर्चस्व कायम करने के बारे में तो सोशल मीडिया एकमात्र आप के ट्रैफिक का स्रोत नहीं हो सकता। इसके लिए आपको कुछ अलग सोचना होगा।

वास्तव में यहां आपको कार्य करने की जरूरत है अपने ऑर्गेनिक ट्रैफिक पर। जी हां ऑर्गेनिक ट्रैफिक वहीं ट्रैफिक होता है जिसमे readers गूगल सर्च के माध्यम से आप की वेबसाइट पर प्रवेश करते हैं।

इसी organic traffic को प्राप्त करने का एकमात्र सटीक उपाय SEO होता है। अर्थात SEO कुछ और नहीं अपितु अपने वेबसाइट पर ऑर्गेनिक ट्रैफिक प्राप्त करने का एक तरीका है। SEO का फुल फॉर्म होता है सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन

SEO से संबंधित अधिक जानकारी के लिए यह लेख पढ़े: SEO Guide in Hindi

Search Engine Optimization करने के 3 तरीके होते है।

  1. On page SEO
  2. Off page SEO
  3. Technical SEO

आज हम off page SEO के बारे में जानेंगे। आइए अब हमारे मुख्य विषय के बारे में जानते है जेड

Off Page SEO क्या है (Off page SEO in Hindi)

वह सभी कार्य जो हम अपने वेबसाइट के search engine optimization के लिए वेबसाइट के बाहर से कार्य करते हैं ना कि अंदर से। उदाहरण के लिए जेड link building एक सबसे प्रमुख off page SEO होता है।

Off page SEO को और बेहतर तरीके से समझने के लिए आइए जानते है on page SEO और OFF page SEO में क्या अंतर होता है!!

ON PAGE SEO vs OFF PAGE SEO in Hindi

अधिकतर यह देखा जाता है कि लोग SEO के प्रत्येक पार्ट को समझने की कोशिश नहीं करते और इसे सिर्फ एक element मानकर चलते है। परंतु यह एक गलत अवधारणा है। क्योंकि यदि आप ब्लॉगिंग सेक्टर में है तो आपको SEO और उससे जुड़ी मूलभूत चीजों के बारे में जानकारी होनी बहुत आवश्यक है।

यह भी पाया गया है कि कुछ लोग SEO से अवगत है और वे जानते भी हैं कि यह कैसे कार्य करता हैं परंतु फिर भी वे इसके तीनों प्रकार के घटकों (on page, off page & technical SEO) के मध्य के अंतर को नहीं जानते।

इन दोनों के बीच का अंतर बहुत ही आसान से समझा जा सकता है। मैं आपको उदाहरण देकर इसे स्पष्ट समझाने का प्रयास करता हूं।

मान लीजिए आपने अपनी एक ब्लॉगिंग वेबसाइट बनाएं जिस पर आप बहुत सारे कंटेंट डाल रहे हैं। आपने अपने वेबसाइट के लिए theme का चयन भी किया है जो बहुत ही सुंदर होने के साथ-साथ पाठकों को भी सहज लगती है। परंतु यह सब करने के पश्चात अंत में आप पाते है कि आपके ब्लॉग पर तो कोई भी ट्रैफिक नहीं आ रहा है।

परंतु यह कैसे मुमकिन है कि आप से भी खराब दिखने वाले वेबसाइट पर भर भर के ट्रैफिक आ रहा है परंतु आपके वेबसाइट पर जोकि काफी सुसज्जित है और इसमें शब्दों का चयन भी लाजवाब है साथ ही यहां बेहतरीन यूजर एक्सपीरियंस भी दिखाई देता है इसके बावजूद भी आपके वेबसाइट में आने वाली ट्रैफिक न के बराबर है।

इसका मूल कारण है कि आपने अपनी वेबसाइट के On page SEO पर तो कार्य किया है परंतु आपने इसके OFF page SEO पर कार्य नही किया।

यहां हम देख सकते हैं कि अंतर स्पष्ट है।

ON page SEO का अर्थ होता है – अपने वेबसाइट के भीतर के सभी elements को व्यवस्थित रूप से पाठको के लिए optimize करना। इसमें शामिल होते है:

  1. Content Creation
  2. Paragraph Readability
  3. User Experience
  4. Menu Bar
  5. Theme Choice
  6. Font Colour
  7. Font Size
  8. Breadcrumbs इत्यादि।

आपने नोटिस किया होगा कि यह किसी पेज के भीतर का मामला है।

इसके विपरित OFF Page SEO का अर्थ होता है – अपने वेबसाइट के बाहर किसी भी प्रकार का ऐसा कार्य करना जिससे आपके वेबसाइट के SEO को लाभ मिले। उदाहरण के लिए backlink बनाना, सोशल मीडिया पर अपने वेबसाइट का प्रचार करना इत्यादि।

अगर आप ों पेज सो सीखना चाहते है तो ये लेख पढ़े: On Page SEO In Hindi

चूंकि अब हमने OFF Page SEO के बारे में सभी मूलभूत बातो को जान लिया है अतः अब हम यह देखेंगे कि OFF Page SEO कैसे करे?

Off Page SEO Kaise Kare In Hindi (Complete Guide)

Off page SEO के बारे में सब कुछ जान लेने के पश्चात अब हम Off page SEO कैसे किया जाता है यह step by step सीखेंगे। मूल रूप देखा जाए तो हम Off page SEO को 5 तरीकों से कर सकते है:

off page seo in hindi

Link Building

यदि आप अपने वेबसाइट को गूगल के नजरों में लाना चाहते हैं तो इसका सबसे बेहतरीन तरीका है कि आप किसी दूसरे के वेबसाइट से अपनी वेबसाइट का लिंक छोड़ें। यदि सामान्य तकनीकी भाषा में कहा जाए तो इसे ही backlink कहा जाता है।

जी हां दोस्तों backlink कि वह एक तरीका है जिसके माध्यम से आप अपने वेबसाइट को प्रमोट कर सकते हैं और गूगल पर उच्च रैंक पा सकते हैं।

Backlink का निर्माण करना off page SEO के अंतर्गत ही आता है। जब आप किसी हाई डोमेन अथॉरिटी वाले वेबसाइट से बैक लिंग का निर्माण करते हैं तो इससे गूगल को संकेत जाता है कि आपका वेबसाइट अवश्य ही किसी अच्छे information को प्रदान कर रहा है। वरना कोई बढ़िया प्रीटी वाली वेबसाइट आपको बैकिंग क्यों देगा?

परंतु हमें इस बात पर भी ध्यान देना चाहिए कि सभी backlink का महत्त्व एक समान नहीं होता इनमें व्यापक अंतर देखा जाता है इसे हम निम्न उदाहरणों से समझ सकते हैं :-

Linking Site की Authority

यदि आप ऐसे वेबसाइट से backlink ले रहे हैं जिसका डोमेन अथॉरिटी हाई है तो इसकी अत्यधिक संभावना है कि आपका डोमेन अथॉरिटी भी कुछ समय पश्चात हाई हो जाए क्योंकि गूगल के नजर में आप एक वेरीफाइड ब्लॉगर के रूप में नजर आएंगे।

वहीं यदि आपने लोन डोमेन अथॉरिटी वाली वेबसाइट से backlink लिया है तो इसकी संभावना अधिक है कि आपका Domain Authority बहुत कम fluctuation दिखाएगा। यह भी हो सकता है कि आपका spam score भी बढ़ जाए।

इसका मुख्य कारण है कि आपने जिस वेबसाइट से backlink लिया है वह स्वयं गूगल के नजर में कोई पक्की ब्लॉगिंग वेबसाइट या महान वेबसाइट नहीं हुई है।

तो आप कहां से बैकलिंक ले रहे हैं यह बात बहुत ही महत्वपूर्ण होती है।

Site में छोड़े गए Backlink की मात्रा

अब यदि आप अच्छे वेबसाइट से बैकलिंक ले रहे हैं तो इसका अर्थ यह नहीं हो जाता कि आप उस वेबसाइट से बैकलिंक पर बैकलिंक लेते जाए।

ध्यान दें कि किसी एक वेबसाइट से लिया गया बैकलिंक उस वेबसाइट से लिए गए 100 बैकलिंक के बराबर ही होगा इससे आपके डोमेन अथॉरिटी पर बिल्कुल भी परिवर्तन नहीं आएगा। वरना कोई व्यक्ति केवल एक वेबसाइट से हजार बैकलिंक लेकर अपने डोमेन अथॉरिटी को हाई बना सकता था।

परंतु यदि आप एक वेबसाइट से अत्यधिक मात्रा में बैकलिंक लेते हैं तो यह भी गूगल के नजर में एक अपराध की बनती दिखाई देती है और हो सकता है कि आपकी वेबसाइट को बैन कर दिया जाए।

Linking साइट पर दिए गए कंटेंट को Quality

यह एक महत्वपूर्ण तथ्य है कि लोग किसी वेबसाइट पर बैंकलिंक बनाते वक्त कंटेंट creation पर ध्यान नहीं देते हैं।

आप स्वयं बताइए कि आपने किसी वेबसाइट पर बैकलिंक छोड़ दिया है परंतु अपने कंटेंट पर ध्यान नहीं दिया है तो उस आर्टिकल तक कोई व्यक्ति पहुंचेगा ही क्यों जिसमें कंटेंट अच्छा नहीं है? तो भले आपके डोमेन अथॉरिटी बढ़ जाएगा परंतु इससे आपको कोई विशेष लाभ नहीं प्राप्त होगा क्योंकि आपके वेबसाइट पर उस बैंक लिंक के माध्यम से कोई भी reader नहीं आएगा।

इसलिए किसी वेबसाइट पर बैटरी छोड़ने से भी ज्यादा महत्वपूर्ण है कि आप इस वेबसाइट से संबंधित articles के साथ बैकलिंक बनाए।

Social Media Promotion

वैसे बैंक लिंक बनाना एक जटिल कार्य होता है और इसमें उर्जा और समय की भी बहुत ज्यादा खपत होती है परंतु यदि आपको बहुत तीव्र गति से अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक चाहिए और आप चाहते हैं कि गूगल महाशय को भी लगेगी आपकी वेबसाइट अन्य वेबसाइट की तुलना में अधिक ट्रैफिक को आकर्षित कर रही है तो आपको सोशल मीडिया का सहारा लेना चाहिए।

Social media एक ऐसा संस्थान है जिसके माध्यम से आप बड़ी मात्रा में ट्रैफिक प्राप्त कर सकते हैं चाहे आप फेसबुक यूज करते हो या इंस्टाग्राम का प्रयोग करते हैं आप किसी भी सोशल मीडिया के माध्यम से अपने ट्रैफिक को वेबसाइट की ओर कन्वर्ट कर सकते हैं।

हो सकता है आपको लगे कि यह भी एक बैकलिंक बनाने की तरह का ही कार्य है, यदि आप ऐसा सोचते हैं तो बिल्कुल सही सोचते हैं क्योंकि यह भी एक बैकलिंक बनाने का ही कार्य है परंतु गूगल को पता होता है कि कौन सा वेबसाइट सोशल मीडिया वेबसाइट है और कौन सा वेबसाइट सामान्य वेबसाइट है। इसलिए गूगल सोशल मीडिया से मिलने वाले बैंक लिंक पर कोई भी डोमेन अथॉरिटी नहीं देती है परंतु यहां से आने वाला ट्रैफिक valid होता है। साथ ही यहां से आने वाले ट्रैफिक पर गूगल नजर रखता है और इसे एक अच्छे संकेत के रूप में भी लेता है

Guest Blogging

यह भी एक तरीका है जिसके माध्यम से आसानी से अपने डोमेन अथॉरिटी को बैंक लिंक के माध्यम से बढ़ाया जा सकता है। यह बैकलिंक बनाने का ओल्ड स्कूल स्टाइल है, परंतु यह आज भी उतना ही कारगर है और लोग जो ब्लॉगिंग करते हैं वह इसका महत्व बहुत अच्छे से समझते हैं।

जरा सोचिए कि आपको किसी वेबसाइट से बैकलिंक की आवश्यकता है तो आप उस वेबसाइट से किस प्रकार से बैकलिंक प्राप्त करेंगे? इसके 3 तरीके हो सकते हैं:

  1. उन्हे पैसे देकर
  2. उनके लिए एक आर्टिकल लिखकर
  3. उनके पुराने लिंक जो एक्सपायर हो चुके हैं को अपने लिंक के माध्यम से बदल कर।

तीसरे तरीके पर हम नीचे बात करेंगे परंतु पहले दो तरीके पर पहले ध्यान देते हैं।

सबसे पहले तरीका उन सभी लोगों के लिए अत्यधिक कारगर है जो ब्लॉगिंग से पैसे कमाना आरंभ कर चुके हैं और अच्छी खासी रकम कमा रहे है। क्योंकि एक उच्च डोमेन अथॉरिटी वाली वेबसाइट 100 या  ₹200 में आपको बैकलिंक नहीं देने वाली। अर्थात वा हजार रुपए से कम में नहीं मानेगी।

आ चुकी आप ब्लॉगिंग से अब तक कमाई करना आरंभ नहीं किया है तो इसका एक अर्थ है कि आप इस पर पैकिंग बनाने के लिए और अधिक निवेश नहीं करना चाहेंगे।

तो ऐसे में बस जाता है दूसरा विकल्प जोकि है किसी वेबसाइट के मालिक को बोलकर की हम आपके लिए एक आर्टिकल लिख रहे हैं ताकि हम चाहते हैं कि आप के पाठकों को इस आर्टिकल के माध्यम से लाभ प्राप्त हो और इस आर्टिकल के बदले में हम एक बैकलिंक चाहते हैं।

बहुत ज्यादा संभावना है कि इस बात से वेबसाइट का मालिक आपको अपने वेबसाइट पर एक गेस्ट आर्टिकल लिखने की मंजूरी दे दे और इससे आपका वहां से  बैकलिंक बनने का काम भी बन जाएगा।

खराब Links को Repair करके

एक अन्य और बड़ा दिलचस्प तरीका जो कि बैकलिंक बनाने का है, वह है किसी वेबसाइट के खराब और एक्सपायर हो चुके लिंक को अपने लिंक के माध्यम से कन्वर्ट करके।

यह अन्य माध्यमों की तुलना में अधिक कठिन कार्य है क्योंकि इसमें आपको उन सभी वेबसाइट होल्डर्स को पहले खोजना पड़ेगा जिनकी वेबसाइट में इस प्रकार की एक्सपायर्ड लिंक है उसके पश्चात उन वेबसाइट के मालिकों को आप को निजी रूप से मेल भेजना पड़ेगा कि आपका अमुक लिंक खराब या एक्सपायर हो चुका है यदि आप चाहते हैं तो उसके जगह हमारे द्वारा दी जा रही बैकलिंक का प्रयोग कर सकते हैं जिसमें उससे बेहतरीन कंटेंट और information दिया गया है।

हालांकि यहां पर संभावना कम नजर आती है कि कोई बड़े वेबसाइट का मालिक आपके इस ईमेल पर ध्यान दें परंतु यदि वह वेबसाइट का मालिक अच्छे कंटेंट की तलाश में रहता है और अपने पाठकों को अपडेट रखना चाहता है तो वह जरूर आपके मेल पर ध्यान देगा और आपके बैंकलिंक को भी अपने वेबसाइट पर रजिस्टर करेगा। परंतु हो सकता है कि वह आपको बैकलिंक देने के बजाय आपसे कुछ रुपए ही नहीं मांग सकता है।

तो यह कार्य लगभग लगभग गेस्ट ब्लॉगिंग के बराबर ही है क्योंकि यहां भी आपको सामने वाले के मेल का इंतजार करना होता है परंतु गेस्ट ब्लॉगिंग में एक बात अच्छी होती है कि यहां अधिकांश था देखा जाता है कि backlink के लिए रकम की मांग नहीं की जाती।

अंतिम शब्द : Off Page SEO Tutorial in Hindi

ऑफ पेज सो एक सरल और सामान्य सा ब्लॉगिंग term है जिससे अधिकांश लोग दूर भागना चाहते हैं परंतु या अन्य SEO के जैसे ही कार्य करता है हालांकि इसमें कुछ मात्रा में टेक्निकल terms ज्यादा दिखाई देते है जैसे बैकलिंक, गेस्ट blogging इत्यादि।

तो आज हमने Off page SEO के बारे में सभी आधारभूत बातों को जाना जैसे Off Page SEO Kaise Kare मतलब Complete Off Page SEO In Hindi और साथ में यह भी देखा कि बैकलिंक क्या होता है और उसे किस प्रकार से बनाया जाता है, उसका महत्व क्या होता है और वह कितना लाभकारी होता है।

आशा करते हैं कि आपको यह लेख Off Page SEO Course in Hindi पसंद आया होगा यदि आपके मन में अभी भी किसी प्रकार का doubt है तो आप हमें नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके कमेंट का जल्द से जल्द उत्तर देने का प्रयास करेंगे। धन्यवाद।

1 thought on “Off Page SEO क्या है और कैसे करते है (Stepwise Guide in Hindi)”

Leave a Comment